आखिर क्यों है मेवात में हजारों बच्चो के भविष्य पर संकट

0
35

मेवात. हरियाणा के सरकारी स्कूलों में शिक्षा के स्तर को सुधारने के लिए लाख दावे किये जा रहे हैं, दफ्तरों में बैठकर फाइलों पर कार्रवाई भी की जाती है, लेकिन जो जमीनी हकीकत है वो कुछ और ही है। प्रदेश के लाखों छात्रों का भविष्य स्कूलों में पूरा स्टाफ ना होने की वजह से खराब हो रहा है। प्रदेश के करीब 21 लाख छात्रों की पढाई स्कूलों में स्टाफ की कमी के चलते बाधित हो रही है।
जानकारी के मुताबिक हरियाणा में प्राइमरी और सैंकेडरी शिक्षा विभाग में 1 लाख 49 हजार 859 पद स्वीकृत हैं, जबकि इनमें से करीब 98 हजार 189 पदों पर ही तैनाती की गई है, जबकि प्रदेश में करीब 53 हजार पद खाली पड़े हुए हैं।
कुल कितने पदों पर सीटें हैं खाली
एक रिपोर्ट के मुताबिक प्रदेश में 54 हजार 308 पद रिक्त पड़े हैं, जूनियर लेक्चरर्स की अगर बात करें तो 38 हजार 130 पद कुल हैं, लेकिन इनमें से 21 हजार 607 पदों पर ही भर्ती की गई है, बाकी 16 हजार 523 पद अभी भी खाली पड़े हैं। प्रदेश में मास्टरों के पद 18 हजार 757 हैं, लेकिन 10 हजार 489 पदों पर ही नियुक्ति की गई है, बाकी 8268 पद अभी तक खाली पड़े हैं।प्रदेश में जिला शिक्षा अधिकारी यानी डीईओ के 21 पद हैं, लेकिन यहां पर सिर्फ 13 ही पद भरे हुए हैं, बाकी 8 सीटें अभी खाली है। इनके अलावा डीईईओ के 21 पदों में से सिर्फ 9 पदों पर ही नियुक्ति की गई है, बाकी सभी खाली पड़े हैं। यही हाल जेबीटी शिक्षकों के मामले में है, प्रदेश में जेबीटी शिक्षकों के लिए 38 हजार 804 पद हैं, लेकिन यहां पर सिर्फ 33 हजार 645 पदों पर ही भर्ती की गई है, बाकी के 5159 पद खाली पड़े हुए हैं। प्रदेश में 2161 पद प्रिंसिपल के लिए हैं, लेकिन इनमें से 1700 प्रिंसिपल ही कार्यरत है, ऐसे में 481 पद यहां पर भी खाली पड़े हुए हैं। प्रदेश में शिक्षा का हब बनाने की चर्चा होती है, सरकारी स्कूलों में शिक्षा के स्तर को बढ़ाने की बातें होती है, लेकिन क्या स्टाफ की कमी में यह सब हो सकता है। आए दिन छात्र अपनी बदहाल पढ़ाई व्यवस्था से परेशान होकर शिकायतें लगाते हुए घूमते हैं, कभी कहीं पर रोड जाम किया जाता है, कहीं पर लोग बच्चों की पढाई को लेकर अधिकारियों से भी मिलते हैं। इनके अलावा सरकारी स्कूलों में स्टाफ की कमी का सबसे ज्यादा फायदा निजी स्कूल उठा रहे हैं, निजी स्कूल बच्चों को अपनी तरफ खींच रहे हैं और सरकारी स्कूलों को खाली करते जा रहे हैं।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here